“खून में उबाल आज भी खानदानी है. . . दुनिया हमारे शौक की नहीं Attitude की दीवानी है”

“खून में उबाल आज भी खानदानी है. . . दुनिया हमारे शौक की नहीं Attitude की दीवानी है”

Spread the love

1 thought on ““खून में उबाल आज भी खानदानी है. . . दुनिया हमारे शौक की नहीं Attitude की दीवानी है””

Leave a Comment

error: Content is protected !!